हैडफोन्स का लगातार इस्तेमाल करना हानिकारक हो सकता है, हर रोज 10 लोग पहुंच रहे अस्पताल

11/21/2020 1:18:52 PM

गैजेट डैस्क: कोरोना महामारी के दौरान हैडफोन्स का इस्तेमाल बहुत बढ़ गया है। वर्क फ्रॉम होम के चलते अधिकतर लोगों को जहां घर से काम करना पड़ रहा है, वहीं विद्यार्थियों का भी सहारा ऑनलाइन क्लासिस ही हैं। हैडफोन्स या ईयरफोन्स का ज्यादा इस्तेमाल करने से डॉक्टरों का कहना है कि लोगों के कानों में दर्द जैसी शिकायतें सामने आ रही हैं।

चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार पिछले आठ महीनों से हैडफोन और ईयरपॉड का इस्तेमाल लोग कई-कई घंटों तक करने लगे हैं, जिनसे ये शिकायतें बढ़ी हैं। सरकार संचालित मुंबई के जे जे अस्पताल के ईएनटी विभाग के प्रमुख डॉक्टर श्रीनिवास चव्हाण ने बताया कि, "ये सभी शिकायतें सीधे तौर पर लंबे समय से हैडफोन्स का इस्तेमाल करते समय सामने आई हैं। उनका कहना है कि ऐसी शिकायतों के साथ अस्पताल के कान, नाक और गला विभाग (ईएनटी) में रोजाना पांच से 10 लोग आ रहे हैं। इनमें से ज्यादा तर लोग आठ घंटे से ज्यादा समय तक हैडफोन का इस्तेमाल कर रहे हैं। लगातार कई-कई घंटों तक ऊंची आवाज सुनने से लोगों की सुनने की क्षमता भी कमजोर पड़ रही है। अगर लोग अपनी आदतें नहीं बदलते हैं तो उनके कानों को स्थायी नुकसान हो सकता है।" 

स्कूली बच्चों को हैडफोन के इस्तेमाल से बचने की है जरूरत

मुंबई के जे जे अस्पताल के ईएनटी विभाग के प्रमुख डॉक्टर श्रीनिवास चव्हाण का कहना है कि, "स्कूली बच्चों को हैडफोन का इस्तेमाल ही नहीं करना चाहिए। अगर वे लैपटॉप या कंप्यूटर के जरिए ऑनलाइन कक्षा से जुड़ रहे हैं तो इनकी आवाज ही पर्याप्त है।" उन्होंने बताया है कि जैसे ही स्कूल के भीतर कक्षाएं बहाल होंगी तो उन्हें डर है कि बड़ी संख्या में बच्चों को कान में दिक्कतों की शिकायतें आ सकती हैं।


Hitesh

Related News