ग्राहकों को झटका, Ford अब भारत में नहीं बनाएगा गाड़ियां

9/9/2021 6:03:52 PM

नई दिल्ली: यात्री वाहन बनाने वाली अमेरिका की प्रमुख फोर्ड मोटर कंपनी की बिक्री देश में लगातार गिरती ही जा रही हैं। इसी को देखते हुए कंपनी अब भारत में अपने दोनों मैन्युफैक्चरिंग प्लांट्स में प्रोडक्शन बंद करेगी। यात्री वाहन बनाने वाली अमेरिका की प्रमुख फोर्ड मोटर कंपनी की बिक्री देश में लगातार गिरती ही जा रही हैं। इसी को देखते हुए कंपनी फोर्ड ने भारत में अपने परिचालन को पुनगठिर्त करने की योजना के तहत घरेलू बाजार में बिक्री के लिए देश में वाहन निर्माण तत्काल बंद करने की आज घोषणा की। 

PunjabKesari


कंपनी ने यहां जारी बयान में कहा कि उसकी भारतीय इकाई फोर्ड इंडिया घरेलू बाजार में बिक्री के लिए वाहन निर्माण तत्काल बंद कर रही है। चालू वर्ष की चौथी तिमाही में गुजरात के सांणद स्थित वाहन असेंबली संयंत्र में निर्यात वाले वाहनों का विनिर्माण भी बंद हो जायेगा।इसी तरह से चेन्नई स्थित ईंजन और असेंबली संयंत्र में भी अगले वर्ष की दूसरी तिमाही में उत्पादन बंद हो जायेगा। उसने कहा कि उसकी इस पहल से सीधे प्रभावित होने वाले कर्मचारियों, कर्मचारी संघो, डीलरों और आपूर्तिकर्ताओं के साथ वह इस दिशा में काम रही है। 

PunjabKesari

क्या कहते हैं बिक्री के आंकड़े
बीते अगस्त महीने में कंपनी ने देश भर में कुल 1,508 यूनिट्स वाहनों की बिक्री की है, जो कि पिछले साल के अगस्त महीने में 4,731 यूनिट्स थें। इस दौरान कंपनी की बिक्री में पूरे 68.1% की गिरावट देखने को मिली है। इसके अलावा पैसेंजर कार सेग्मेंट में कंपनी का मार्केट शेयर भी पिछले साल के अगस्त महीने के 2% के मुकाबले घटकर 0.6% रह गया है। Ford के वाहनों की बिक्री रिपोर्ट काफी निराश करने वाली हैं। 

फोर्ड का इतिहास
शुरुआत में हेनरी के पास 25.5% हिस्सेदारी थी, लेकिन 1919 में हेनरी और उनके बेटे ने अन्य सभी मालिकों के हिस्सेदारी को खरीद लिया।
कंपनी, फोर्ड और लिंकन जैसे ब्रांडों के तहत अपने सभी वाहनों को बेचती है और कई अन्य ऑटोमोबाइल कंपनियों में प्रमुख हिस्सेदारी रखती है।
फोर्ड की स्थापना 1903 में मिशिगन के डेट्रायट में 12 लोगों द्वारा की गई थी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Recommended News

static